होली और शिव

होली से जुड़ी कई कथाएं पुरातन ग्रंथों में मिलती है। इन कथाओं के पीछे जीवन के सूत्र भी छिपे हैं। होली से जुड़ी एक कथा यह भी है- इंद्र भगवान शिव की तपस्या भंग करना चाहते थे। उन्होंने कामदेव को इस कार्य पर लगाया। कामदेव ने उसी समय वसंत को याद किया और अपनी माया […]

Continue Reading →
 

जब अफगानिस्तान मे प्रकट हूए शिव

जब अफगानिस्तान मे प्रकट हूए शिव, बहुत ही मनमोहक सत्य घटना जरुर पढ़ें अपने 200 बर्ष के शासनकाल मे अंग्रेजों ने भारत मे सैकड़ों चर्च बनवाये, बड़ी बड़ी इमारतें और प्रतिष्ठान बनवाये पर सिर्फ एक ही हिन्दू मंदिर के जिर्न्नोद्धार की बात इतिहास मे दर्ज है । यह बात सन 1879 की है …… जब […]

Continue Reading →
 

महाशिवरात्रि और ज्योतिषशास्त्र

महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर भगवान् शिव और ज्योतिषशास्त्र शिव संस्कृत भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है, कल्याणकारी या शुभकारी। यजुर्वेद में शिव को शांतिदाता बताया गया है। ‘शि’ का अर्थ है, पापों का नाश करने वाला, जबकि ‘व’ का अर्थ देने वाला यानी दाता। शिव अनादि तथा सृष्टि प्रक्रिया के आदिस्रोत हैं और […]

Continue Reading →
 

मैं शिव हूँ

विभत्स हूँ… विभोर हूँ… मैं समाधी में ही चूर हूँ… मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। घनघोर अँधेरा ओढ़ के… मैं जन जीवन से दूर हूँ… श्मशान में हूँ नाचता… मैं मृत्यु का ग़ुरूर हूँ… मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। साम – दाम तुम्हीं रखो… मैं दंड में […]

Continue Reading →
 

ॐ उच्चारण के 11 शारीरिक लाभ

ॐ : ओउम् तीन अक्षरों से बना है। अ उ म् । “अ” का अर्थ है उत्पन्न होना, “उ” का तात्पर्य है उठना, उड़ना अर्थात् विकास, “म” का मतलब है मौन हो जाना अर्थात् “ब्रह्मलीन” हो जाना। ॐ सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति और पूरी सृष्टि का द्योतक है। ॐ का उच्चारण शारीरिक लाभ प्रदान करता […]

Continue Reading →
 

माता पार्वती जन्म कथा

सतीं मरत हरि सन बरु मागा। जनम जनम सिव पद अनुरागा॥ तेहि कारन हिमगिरि गृह जाई। जनमीं पारबती तनु पाई॥ सती ने मरते समय भगवान हरि से यह वर माँगा कि मेरा जन्म-जन्म में शिवजी के चरणों में अनुराग रहे। इसी कारण उन्होंने हिमाचल के घर जाकर पार्वती के शरीर से जन्म लिया॥ क्योंकि पर्वतराज […]

Continue Reading →
 

एकदन्त

पद्म पुराण के अनुसार, एक बार भगवान शिव के प्रबल भक्त, परशुराम कैलाश में उससे मिलने आये । चूंकि भगवान शिव व्यस्त ध्यान कर रहे थे, उस समय गणेश जी द्वार पर पहरा दे रहे थे । अतः उन्होंने परुशराम को अंदर आने से रोका । परशुराम हिंदू पौराणिक कथाओं में अपने क्रोध के लिए […]

Continue Reading →
 

अशोक सुंदरी

अशोक सुंदरी (संस्कृत: अशोकसुन्दरी) यह एक हिन्दू देवकन्या हैं, जिनका वर्णन भगवान शिव और पार्वती की बेटी के रूप में किया गया है। वह आम तौर पर मुख्य शास्त्रों में शिव के पुत्री के रूप में वर्णित नहीं हैं, उनकी कथा पद्मपुराण में अंकित है। माता पार्वती के अकेलेपन को दूर करने हेतु कल्पवृक्ष नामक […]

Continue Reading →